Breaking

Sunday, 3 March 2019

क्या सपने सच होते हैं ?

              

    क्या 'सपने' सच होते हैं ?

" सपने तभी पूरे होते हैं, जब सपनों को पूरा करने के लिए दिन-रात मेहनत की जाए! वरना सपने देखते-देखते ही जिंदगी गुजर जाती है और कोई भी सपना पूरा नहीं होता है!"

      आइए दोस्तों, जानने की कोशिश करते हैं कि सपने पूरे होते हैं या नहीं! जीवन का सबसे बड़ा रहस्य है कि कुछ लोगों को सफलता बहुत आसानी से मिल जाती है,  जबकि कई लोगो को काफी मेहनत के बाद भी नहीं मिलती ! सच्चाई तो यह है कि हर कामयाब व्यक्ति में कुछ ना कुछ विशेष गुण व योग्यता होती है! मगर उससे भी खास बात यह होती है कि वह एक अच्छे सपने देखने वाले होते हैं, उनके जीवन की तमाम इच्छाएं उनके सपनों के साथ जुड़ी होती हैं! कोई भी चीज तब तक नहीं मिल सकती, जब तक की उसके बारे में एक विचार ना जन्म ले !जब तक की किसी के मन में उस चीज को लेकर कोई सपने  ना  जन्म ले!

      सपने भविष्य का आईना होता है! हर कामयाब व्यक्ति के मन में अपने जीवन को  बेहतर बनाने के कुछ सपने होते हैं! एक बेहतर भविष्य की उम्मीदें होती है, उनके मन में कुछ ना कुछ पहले से आभास भी होता है और वे उस दिशा में सब कुछ करते हैं! इच्छा शक्ति किसी भी सपने के साकार होने में हौसला बढ़ाने का काम करती है! 

    हमारी इच्छा शक्ति हमें सपने देखने को  प्रेरित करती है! फिर जैसे-जैसे हमारे अंदर  सपने विकसित होते जाते है तो हमारे मन में जीवन और भविष्य की एक  साफ-सुथरी तस्वीर उभरने शुरू हो जाती हैं फिर हम उस दिशा में सोचना शुरू करते हैं कि किस तरह  उन सपनों को साकार किया जाए! 


जीवन में वास्तविक उपलब्धियां प्रयासों से ही हासिल किया जाता है, किसी भी सफल  व्यक्ति के जीवन का अध्ययन करने पर हम पाएंगे कि उसने कोई सपना देखा था और उस सपने को साकार करने के लिए जी- जान से जुट गया था!



     
सपनों से हमारा मतलब है खुद के लिए और समाज के भविष्य की रूपरेखा निर्धारित करने से हैं! इन सफल लोगों के जीवन से हमें यह सीखने को मिलता है कि सफलता का सबसे महत्वपूर्ण फॉर्मूला अपनी क्षमताओं एवं साधनों का सर्वोत्तम प्रयोग करना है और इसके पीछे निश्चित उद्देश्य होना चाहिए! यदि हम अपने भविष्य को संवारने चाहते हैं तो इसके लिए योजना बनाना जरूरी है! कई लोग कैरियर या भविष्य की योजना बनाना बेकार समझते हैं, क्योंकि वह मानते हैं कि उन्हें जो भी मिलना होगा मिल जाएगा! हाथ पर हाथ धरे बैठे रहने वाले ऐसे लोगों  के हिस्से में पछतावा ही आता है!

      चिंता कर -कर के अपना मानसिक तनाव बढ़ाने से उपलब्धियां हासिल करने में ना तो आपको कोई मदद मिलेगी और ना ही इसे जीवन बेहतर बनेगा! समस्याओं का समाधान ढूंढ कर, चुनौतियों का सामना करके एवं खुद में विश्वास रखकर ही आप कामयाबी के रास्ते पर अपने कदम बढ़ा पाएंगे! 


आज का युग प्रतियोगिता का युग है, हर जगह  यह बात सुनने को मिलती है! लेकिन यह भी सच है कि मेहनती, लगन शील एवं दृढ़ निश्चय से भरे लोगों के लिए भरपूर अवसर आज भी मौजूद है!


  इसलिए दोस्तों,सफलता कुछ व्यक्तियों की धरोहर नहीं है! सफलता हासिल करने की  मूल-मंत्रों को अपनाकर हममें से हर कोई अपने सपने को साकार कर सकता है! 
                          
     ( Best Of Luck For the New Life.)
                              ***

No comments:

Post a Comment

If You Have Any Doubts.