Breaking

Saturday, 31 August 2019

सफलता को आदत बना ले, नहीं तो.......

सफलता को आदत बना ले, नहीं तो.......

" जब आप सकारात्मक ढंग से सोचने लगते हैं और अपनी जिम्मेदारी खुद लेने लगते हैं तो कई बार परिस्थितियां भी आपके पक्ष में काम करने लगती है तथा आपकी परेशानियां भी दूर होती चली जाती है!"
       
          दोस्तों, केवल चाहने भर से कोई मंजिल नहीं मिल जाती, इसके लिए जरूरत होती है  कोई मकसद को मन में बिठाने की और फिर उस पर लगातार मेहनत करने की! जिंदगी में हम लगातार ऐसी परिस्थितियों का सामना करते रहते हैं जो हमारा ध्यान हमारे लक्ष्य से भटका देती है! इसका परिणाम यह होता है कि हमें जाना तो कहीं और होता है और हम पहुंच कहीं और जाते हैं!
           
        इससे बचने के लिए यह जरूरी है कि हम जब जिंदगी का कोई बड़ा मकसद बनाए तो सबसे पहले अपने लिए ईमानदार बने! अपनी क्षमताओं का विश्लेषण करें तथा पता लगाएं कि लक्ष्य को हासिल करने के लिए हमें अपने आप में क्या बदलाव लाने की जरूरत है!

     डर इंसान को आगे बढ़ने से रोकने की कोशिश करता है! असफलता,  अयोग्यता, असमर्थता, असम्मान जैसे नकारात्मक विचार एक जेल की तरह है जो हमारी उन्नति को कैद कर लेते हैं! इसलिए असफलता के ऐसे विचारों को अपने दिलो-दिमाग से उखाड़ फेंकना चाहिए!
       
      नकारात्मक विचारों को मन से निकालने के साथ यह भी जरूरी है कि इससे पैदा हुए खाली जगह को सकारात्मक विचारों से भरा जाए, यह काम आसान नहीं है और इसे एक आदत के रूप में विकसित करना होगा!
            
एक बार जब यह आदत बन जाएगी तो सकारात्मकता हमारे व्यक्तित्व का स्थाई हिस्सा हो जाएगा! दोस्तों, यकीन मानिए दिमाग एक खाली जमीन की तरह है जिस पर आने वाली फसल इस बात पर निर्भर करती है कि हम उस पर कौन से बीज बोते हैं! 

कोई भी आदत यूं ही नहीं पड़ जाती! दरअसल सोच विचार कर काम करने की आदत भी हमें शक्ति और दिशा प्रदान करती है! सकारात्मक सोच हमारी इच्छा-शक्ति तथा हमारी अनवरत कार्य शीलता इस शक्ति का संरक्षण करती है!



       
    इच्छाशक्ति के अभाव में सरल कार्य भी जटिल हो जाते हैं! हमें सफलता दिलाने में इसका बहुत बड़ा हाथ होता है! बशर्ते हम अपने पूरे मन से कार्य करते रहें! किसी व्यक्ति को यदि किसी कार्य के लिए नियुक्त किया जाता है और उस व्यक्ति ने पूरे मन से काम नहीं किया तो, ना तो कार्य सफल होगा और ना ही सम्मान की प्राप्ति होगी! व्यक्ति ने मन से काम किया तो उसे काम आसानी से समझ में आएगा और उसे सफलता भी मिलेगी
       
जीवन की चुनौतियों का सामना आपको खुद ही करना है और अपने जीवन की दिशा आपको खुद ही निर्धारित करनी है! आप चाहे तो आम लोगों की तरह रोजी-रोटी के जुगाड़ में अपनी पूरी जिंदगी गुजार सकते हैं लेकिन अगर कुछ नया कुछ अलग करके दिखाना है तो आप योजनाओं के प्रति व्यावहारिक दृष्टिकोण अपनाएं और अपने प्रत्येक कार्य को पूरे मन व निष्ठा के साथ एक चुनौती के रूप में लेकर उसे सफल बनाने की प्रयास करेंगे!
        
   कभी भी किसी स्तर पर निष्क्रियता को अपने जीवन में ना आने दे ताकि संघर्ष कम करना पड़े और सफलता शीघ्र मिले! अतः अपना ज्ञान, धैर्य और श्रम बढ़ाएं तथा अपने व्यक्तित्व को निखारें! संघर्ष, सफल और सार्थक हो जाएगा वह आपको सफलता के द्वार तक पहुंचाएगा!
  

बस इतना ध्यान रहे की कैरियर के लिए किए गए संघर्ष में शत्रुता का भाव दिल में किसी के लिए भी नहीं होना चाहिए!
                                    
 " Best of Luck for the New Life. "
                         @@@

No comments:

Post a Comment

If You Have Any Doubts.